अंजना वेलफेयर सोसाइटी ने रिदम नृत्य महोत्सव का आयोजन किया

11

नई दिल्ली। – अंजना वेलफेयर सोसाइटी के द्वारा नई दिल्ली के विनय मार्ग पर स्थित CSOI ऑडिटोरियम में रिदम नाम का कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
अमरेंद्र खुटवा, शैलेश एवं अमिताभ गौतम, मुकुंद श्रीवास्तव, विद्या लाल, मनीष कुलश्रेष्ठ इत्यादि ने दीप जलाकर कार्यक्रम की शुरुआत की। एनआईपीए के दिव्यांग बच्चों के द्वारा गणेश वंदना कर कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में प्रमुख भूमिका में चेन्नई से आए हुए अमरनाथ घोष की कुचिपुड़ी नृत्य रहा जिसमें उन्होंने खंडिता नायिका का चित्रण तथा थाली नृत्य का मनोरम प्रदर्शन दिखाया। कथक नृत्य की बात करें तो दीपक गंगानी और रिचा जोशी की जुगलबंदी ने कथक नृत्य दिखाकर लोगों का मन मोह लिया। इसके साथ-साथ जयपुर घराने की बंदिशों का शानदार प्रस्तुतीकरण रहा वही गुरु राजेंद्र गंगानी के शिष्य निखिल परिहार के एकल नृत्य को सवा कार का संपूर्ण समर्थन और प्रशंसा मिली। एक ओर जहां कविता मोहंती के निर्देशन में ओडीसी नृत्य की दुर्गा स्तुति ने सबका मन मोह लिया वहीं 8 वर्षीय अन्वेशा की कथक प्रस्तुति में स्फूर्ति और नृत्य भाव आकर्षित करने वाले थे तथा तन्वी, आदिति, स्वर्णिमा, भावेश इत्यादि की भी प्रस्तुति उल्लेखनीय थी।

कार्यक्रम में में मुकुंद श्रीवास्तव जी (प्रिंसिपल सेक्रेट्री गवर्नमेंट ऑफ सिक्किम) उपस्थित रहे और इसके साथ-साथ वीआईपी गेस्ट में अमिताभ गौतम और शैलजा गौतम (ज्वाइंट सेक्रेट्री मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर) जी उपस्थित रहे। अंजना वेलफेयर सोसाइटी से माया कुलश्रेष्ठ ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य सिर्फ एक महोत्सव नहीं है बल्कि यह संस्था भारतीय संगीत और नृत्य को आगे बढ़ा रही है। माया जी ने यह भी बताया कि मैं एक कत्थक नृत्यांगना हूं तो मैं जानती हूं कि मंच को पाना कितना मुश्किल होता है।
इस कार्यक्रम में स्पॉन्सर्स के तौर पर एनटीपीसी, पावर ग्रिड, कैच और हैंगरमी ने काफी ज्यादा योगदान दिया।

संस्था ने पिछले कई वर्षों से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, दिव्यांग, स्त्री शक्ति के लिए भी काम किया है।

कार्यक्रम में कई शास्त्रीय नृत्य जैसे भरतनाट्यम, कत्थक आदि अनेक परफॉर्मेंस अलग-अलग बच्चों के द्वारा दिखाई गई जैसे अन्वेशा (कत्थक), तन्वी अग्रवाल (कत्थक), निखिल (कत्थक) अदिति (कत्थक) काव्या भंडारी भावेश राणा (कत्थक), शालू श्रीवास्तव और कविता मोहंती (ग्रुप परफॉर्मेंस) दीपक गंगानी, रिचा जोशी (कत्थक), अमरनाथ घोष (कुचिपुड़ी) कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन दिखाकर लोगों का मुंह मोह लिया।

अनुज मौर्य रिपोर्ट