अब गूगल मैप की मदद से खोज सकेंगे सार्वजनिक शौचालय

131

आवास और शहरी विकास सचिव दुर्गाशंकर मिश्रा और गूगल के निदेशक (पब्लिक पॉलिसी) चेतन कृष्णास्वामी की मौजूदगी में मंत्रालय और गूगल के बीच सहयोग समझौता किया है.

नई दिल्ली: सर्च इंजन गूगल ने अपनी मानचित्र सुविधा को स्वच्छ भारत अभियान से जोड़ते हुये देश के 500 शहरों में लोगों को ‘गूगल मैप’ की मदद से नजदीकी सार्वजनिक शौचालय खोजने में मददगार बनने की पहल की है.

आवास और शहरी विकास मामलों के मंत्रालय ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत देश के 500 शहरों में निर्मित लगभग 30 हजार सार्वजनिक शौचालयों को गूगल मैप से जोड़ दिया है. मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को बताया गया कि इन शहरों में लोग गूगल मैप पर ‘‘एसबीएम ट्वायलेट’’ सर्च करने पर अपने नजदीकी सार्वजनिक शौचालय तक पहुंच सकेंगे. इसके लिये आवास और शहरी विकास सचिव दुर्गाशंकर मिश्रा और गूगल के निदेशक (पब्लिक पॉलिसी) चेतन कृष्णास्वामी की मौजूदगी में मंत्रालय और गूगल के बीच सहयोग समझौता किया है.

इस मौके पर मिश्रा ने बताया कि मंत्रालय ने यह पहल देश में सभी शहरों को खुले में शौच की समस्या से मुक्त करने (ओडीएफ) के अभियान के तहत की है. देश के लगभग 3400 छोटे बड़े शहर और कस्बों को ओडीएफ का दर्जा मिल चुका है.

मंत्रालय ने गूगल मैप की मदद से सार्वजनिक शौचालय खोजने की सुविधा से लोगों को अवगत कराने के लिये अक्तूबर और नवंबर में देशव्यापी जागरुकता अभियान चलाने का फैसला किया है. इसमें लोगों को यह बताया जायेगा कि सार्वजनिक स्थलों को गंदगी से बचाने के लिये शौचालयों तक गूगल मैप से ‘‘एसबीएम ट्वायलेट’’ की मदद से न सिर्फ आसानी से पहुंचा जा सकेगा बल्कि इस पर शौचालय में सफाई और अन्य सुविधाओं का ऑनलाइन फीडबैक भी दिया जा सकेगा.

उन्होने बताया कि गूगल मैप पर ‘निकटतम सार्वजनिक शौचालय’ की लोकेशन सर्च करने पर भी इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकेगा. लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से भी इस अभियान से जोड़ा जायेगा.