किसकी सरपरस्ती में चल रहा था यह अवैध शराब का कारोबार,पकड़ी गई 5 हज़ार लीटर अवैध शराब

220

रायबरेली। होली के त्यौहार व लोकसभा चुनाव में इस्तेमाल करने के लिए भारी मात्रा में बनाई जा रही अवैध नकली शराब फैक्ट्री का रायबरेली पुलिस ने भंडाफोड़ करते हुए 5 हजार लीटर नकली शराब, भारी मात्रा में बोतले,स्टीकर के साथ 7 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। पकड़ी गई शराब फैक्ट्री बीते 3 वर्षों से संचालित हो रही थी।

रायबरेली जिले के लखनऊ प्रयागराज नेशनल हाइवे पर मिलएरिया थाना क्षेत्र के छजलापुर में स्थित एक मकान में पुलिस ने छापा मारा तो वहाँ पर नकली शराब का धड़ल्ले से कारोबार संचालित हो रहा था। पुलिस ने मौके से 5 हजार लीटर नकली अवैध शराब के साथ ही भारी मात्रा में बोतले स्टीकर के साथ 7 लोगो को गिरफ़्तार किया है। यह शराब फैक्ट्री बीते तीन वर्षों से संचालित थी। नकली शराब फैक्ट्री की सूचना पर मौके पर पहुचे पुलिस अधीक्षक की माने तो आगामी चुनाव व होली के पर्व को देखते हुए शराब की बढ़ी डिमांड को पूरा करने के लिए इस तरह की अवैध नकली शराब को बोतलों में भरकर नकली स्टीकर लगाकर सप्लाई का काम किया जा रहा था जिसका पुलिस टीम ने भंडाफोड़ किया है।

पकड़ी गई नकली अवैध शराब फैक्ट्री नेशनल हाइवे के पास ही सपा के पूर्व विधायक के घर के पीछे बीते कई वर्षों से संचालित हो रही थी पर इसकी भनक पुलिस को अभी तक नही लग सकी थी। पर जिस तरह से बुधवार देर रात पुलिस ने इस नकली शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है उसमें कई राज अभी भी छुपे हुए है।मौके पर जाँच करने पहुचे पुलिस अधीक्षक ने हर पहलू से जाँच की व टीम बनाकर अन्य कौन कौन लोग इस कारोबार में शामिल है उनके गिरफ्तारी के लिए टीम रवाना कर दी है,वही सोचने वाली बात यह है कि फैक्ट्री आखिर किसकी सर परस्ती में चल रही थी और इसका आका कौन है? इस ओर भी देखने व सोचने की पुलिस को जरूरत है।

अनुज मौर्य रिपोर्ट