कुंभ में मांसाहारी और शराबी पुलिसवालों की ड्यूटी पर रोक, संस्कारी पुलिसकर्मियों को तैनात करेगी योगी सरकार

55

योगी सरकार ने खानपान को लेकर यह फैसला इसलिए किया है, ताकि मेले में ड्यूटी के दौरान पुलिसवालों का रवैया अच्छा रहे और वह सुरक्षा पर नजर रखने के साथ ही श्रद्धालुओं के साथ गाइड और मददगार के तौर पर अपना व्यवहार रख सकें. योगी

इलाहाबाद। संगम के शहर इलाहाबाद में लगने जा रहे कुंभ मेले को लेकर यूपी की योगी सरकार ने एक अहम फैसला लिया है. इसके तहत इस बार के मेले में मांसाहारी और शराब का सेवन करने वाले पुलिस कर्मियों की ड्यूटी नहीं लगाए जाने का फैसला किया गया है. मेले में सिर्फ उन्ही पुलिसवालों की ड्यूटी लगाई जाएगी जो पूरी तरह शाकाहारी होंगे और शराब का सेवन नहीं करते होंगे. इसके साथ ही ये पुलिस वाले मेला अवधि में ड्यूटी के दौरान पान मसाला-सिगरेट व गुटखे का सेवन भी नहीं कर सकेंगे.

योगी सरकार ने खानपान को लेकर यह फैसला इसलिए किया है, ताकि मेले में ड्यूटी के दौरान पुलिसवालों का रवैया अच्छा रहे और वह सुरक्षा पर नजर रखने के साथ ही श्रद्धालुओं के साथ गाइड और मददगार के तौर पर अपना व्यवहार रख सकें. योगी सरकार की मंशा है कि इस बार के मेले में संस्कारी पुलिस वालों की ड्यूटी लगाई जाए.

मेले में ड्यूटी करने वाले पुलिसवालों के खानपान और उनके व्यवहार को लेकर सरकार की मंशा के मद्देनजर यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने सूबे के सभी जोन व रेंज के अफसरों को सर्कुलर भी जारी कर दिया है. इस सर्कुलर में कुंभ में तैनात होने वाले पुलिसवालों के खानपान के साथ ही उनकी उम्र को लेकर भी दिशा निर्देश जारी किये गए हैं. यह तय किया गया है कि मेले में पैंतीस साल से ज़्यादा की उम्र के कांस्टेबल्स की ड्यूटी न लगाई जाए.

इसके साथ ही हेड कांस्टेबल्स की उम्र चालीस साल और सब इंस्पेक्टर्स की उम्र पैंतालीस साल से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए. इसके पीछे दलील यह दी जा रही है कि कुंभ के दौरान कड़ाके की ठंड पड़ती है. इसके साथ ही कुंभ में कई बार पैदल ही एक से दूसरी जगह आना- जाना पड़ता है. ऐसे में ज़्यादा उम्र के पुलिसवालों को ठंड व पैदल चलने में दिक्कत हो सकती है, इसलिए कम उम्र के पुलिसवालों को ही तैनात किया जाए. डीजीपी के सर्कुलर में उन पुलिस वालों को भी मेले की ड्यूटी में भेजे जाने पर रोक लगाई गई है, जो इलाहाबाद के रहने वाले हैं.

कुंभ मेले के डीआईजी केपी सिंह के मुताबिक़ अच्छे और शांत व्यवहार के लिए खानपान पर रोक लगाने के साथ ही सभी पुलिसवालों को अच्छे व्यवहार की ट्रेनिंग भी दी जाएगी. सभी पुलिसवालों के लिए दस से पंद्रह दिनों की क्लास भी लगाई जाएगी. डीआईजी केपी सिंह के मुताबिक़ इस बार के मेले के लिए तकरीबन चौबीस हजार सिविल पुलिस कर्मियों की डिमांड की गई है. इनमें से अब तक अठारह हजार की मंजूरी मिल चुकी है. कम से कम दो से तीन हजार अन्य पुलिसकर्मियों की तैनाती की भी मंजूरी जल्द ही मिलने की उम्मीद है.
मेले में पुलिस के तमाम अफसरों की नियुक्ति हो चुकी है, जबकि फ़ोर्स की आमद अगले हफ्ते से होनी शुरू हो जाएगी.

इस बार का कुंभ मेला चौदह जनवरी से शुरू हो रहा है, जिसमे तीन शाही स्नान होंगे. मेले के दौरान दुनिया भर से बारह करोड़ से ज़्यादा श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. मेले में सिर्फ शाकाहारी पुलिसवालों की ड्यूटी लगाए जाने के फैसले का साधू-संतों ने स्वागत किया है और साथ ही कुंभ के दौरान पान मसाले- गुटखे की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाए जाने की भी मांग की है.