कॉलेज को डिजिटल बनाने हेतु ‘आई-मेड’ विषयक सेमिनार सम्पन्न

29

रायबरेली। फीरोज गांधी कालेज में कालेज को पूर्णतया डिजिटल बनाने के लिए इनोवेषन इन मोबाइल एप्लिकेषन एण्ड डेवलपमेंट इकोसिस्टम (आई-मेड) पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में आए मुख्य अतिथियों षिक्षकों, विद्यार्थियों तथा षिक्षणेत्तर कर्मचारियों का स्वागत डॉ. शैलेन्द्र त्रिपाठी कोआर्डिनेटर आईक्यूएसी सेल के द्वारा किया गया। आई-मेड के बेसिक अवधारणा के बारे में नोडल अधिकारी डा. अमिष ने परिचय कराया और बताया कि यह दूर संचार विभाग भारत सरकार द्वारा सहायता प्राप्त संस्था है और यह प्रधानमंत्री के डिजिटल इण्डिया को ध्यान में रखकर बनाया गया है। महाविद्यालय के प्रबन्ध मंत्री ओंकार नाथ भार्गव ने अपना आषीर्वचन दिया और कार्यक्रम को छात्र हित के लिए तथा भविष्य में होने वाले कॉलेज के नैक साइकल तीन के लिए उपयोगी बताया। इसी क्रम में मुख्य वक्ताओं में दूरसंचार विभाग भारत सरकार की मानसी बाली ने बताया कि आई-मेड एक ऐसा एप्प है जिसके द्वारा छात्र/छात्राओं को आनलाइन फीस पेमेंट, टाईम टेबल, नोटिस-सूचना, छात्र-छात्राओं की उपस्थिति सुविधा है, जिसके द्वारा विद्यार्थी-षिक्षक अन्तर्क्रिया बढ़ाया जा सकता है और उन्हांने एप्प को प्रोजेक्टर पर प्रदर्षित करके उसके बारे भी बताया।

अन्य वक्ता में दूरसंचार विभाग भारत सरकार की इषिता राज ने उच्च षिक्षा में तकनीकी की बढ़ती उपयोगिता पर बल डाला। कार्यक्रम का संचालन बीएड विभाग के असिस्टेन्ट प्रोफेसर डा. सुभाष चन्द्र ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन कालेज के प्राचार्य डॉ. हरीष चन्द्र श्रीवास्तव ने दिया। इस अवसर पर डॉ. आदर्ष कुमार, डॉ. बीडी मिश्र, डॉ. उदय भान सिंह, डॉ. अरविन्द्र प्रकाष, डॉ. डीके सिंह, डॉ. निरंजन, डॉ. अरविन्द सिंह, डा. प्रवीण कुमार, डा. दिनकर त्रिपाठी, डा. नीलांषु अग्रवाल, श्रीचन्द्र शर्मा तथा गैर षिक्षणेत्तर कर्मचारी और बड़ी संख्या में छात्र/छात्राएं उपस्थित रहे।

अनुज मौर्य रिपोर्ट