गुजरात: हमले के बाद उत्तर भारतीयों का पलायन जारी, संजय निरूपम की पीएम को धमकी

41

साबरकांठा में 28 सितंबर को 14 महीने बच्ची के बलात्कार का मामला सामने आया. इस मामले में बिहार के एक मजदूर को गिरफ्तार किया गया. घटना के बाद से उत्तर भारतीयों के खिलाफ नफरत वाले मैसेज वायरल होने लगे. इसके बाद उत्तर भारतीयों पर हमले शुरू हो गए.

नई दिल्ली: देश में व्यापार के लिए अहम राज्य गुजरात में इस समय अशांति फैली हुई है. वहां से परप्रांतीय लोग खासकर उत्तर भारतीय डरकर भाग रहे हैं. गुजरात पुलिस के मुताबिक 14 महीने की बच्ची के रेप के बाद फैली अफवाह से छह जिले प्रभावित हुए है. मेहसाणा और साबरकांठा सबसे अधिक प्रभावित हुए है. इन जिलों में, 42 मामलें दर्ज किये गए हैं और अब तक 342 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इन इलाकों में रोजी रोटी के लिए यूपी और बिहार से आकर लोग रह रहे थे. अब दूसरे राज्यों के लोगों पर हो रहे हमलों को देखते हुए लोग वापस अपने घरों को लौट रहे है.

पुलिस ने किया फ्लैग मार्च, फैक्ट्रियों के बाहर फोर्स तैनात
उत्तर भारतीयों के साथ मारपीट के बाद गुजरात पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है. अब सड़कों पर जगह जगह पुलिस तैनात हो चुकी है. अहमदाबाद में फ्लैग मार्च हो रहा है. डीजीपी शिवानंद झा ने खुद अब तक हुए पुलिस एक्शन के बारे में जानकारी दी. वहीं सांबरकाठा जिले में पुलिस ने फैक्ट्रियों के मालिकों और मजदूर संगठनों के साथ बैठक की. इसके बाद कई फैक्ट्रियों के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

क्यों हो रहे हैं परप्रांतियों पर हमले?
गुजरात में रह रहे उत्तर भारतीयों और वहां के स्थानीय लोगों के बीच 28 सितंबर की एक घटना तनाव की वजह बनी. साबरकांठा में 28 सितंबर को 14 महीने बच्ची के बलात्कार का मामला सामने आया. इस मामले में बिहार के एक मजदूर को गिरफ्तार किया गया. घटना के बाद से उत्तर भारतीयों के खिलाफ नफरत वाले मैसेज वायरल होने लगे. इसके बाद उत्तर भारतीयों पर हमले शुरू हो गए. गांधीनगर, मेहसाणा, साबरकांठा, पाटन और अहमदाबाद में हमले हुए. इसके बाद कई उत्तर भारतीय मजदूरों ने गुजरात से पलायन करना शुरु कर दिया.

कांग्रेस नेता संजय निरूपम की पीएम मोदी को धमकी
गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले के बाद राजनीति भी गरमा गई है, कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने हमले के लिए सीधे पीएम मोदी को निशाने पर ले लिया और धमकी दे डाली. संजय निरुपम ने कहा, ”पीएम के गृह राज्य में अगर उत्तर भारतीय लोगों को भगाया जाएगा तो पीएम को भी बनारस जाना है. एक दिन ये ध्यान रखना, वो तो गुजरात के थे लेकिन बनारस के लोगों ने देखा भी नहीं कि गुजरात के हैं कि महाराष्ट्र के हैं. सरेआम झूठ बोला भी फिर भी बनारस के लोगों ने गले लगाया और पीएम बना दिया.” दूसरी और कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने लोगों से शांति की अपील की.

सद्भावना अनशन करेंगे अल्पेश ठाकोर
गुजरात में मचे बवाल को लेकर कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने एक दिन का सद्भावना अनशन करने का ऐलान किया है. साबरकांठा में बच्ची से बलात्कार की घटना के बाद बिहार और यूपी के लोगों पर हमले को लेकर कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने सफाई दी है कि इसमें ठाकोर सेना के किसी भी सदस्य का हाथ नहीं है. ठाकोर ने एलान किया है कि वो गुरुवार को एक दिन का सद्भावना अनशन करेंगे.

अपराधी का कोई क्षेत्र नहीं होता, सजा मिले: हार्दिक पटेल
पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी इस मसले पर कहा कि अपराधी को कठोर सजा मिले, इसके लिए पूरा देश उस पीड़ित परिवार के साथ खड़ा हैं. अपराधी का कोई क्षेत्र नहीं, वह केवल अपराधी होता हैं. अपराधी को क्षेत्र विशेष से नही पहचाना जा सकता. क्षेत्रवाद जैसे राष्ट्र विरोधी विचार से देश को विखंडित नही होने देंगे. भारत कश्मीर से कन्याकुमारी तक एक हैं.