घर में मिला बसपा के पूर्व विधायक हाजी अलीम का शव, हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी मौत की गुत्थी

46

एसपी सिटी प्रवीन रंजन ने बताया कि मामला हत्या का है या आत्महत्या का, यह जांच का विषय है। शव का पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल से होगा और पोस्टमार्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई जायेगी।

बुलंदशहर: बुलंदशहर सदर सीट से बसपा के दो बार के विधायक हाजी अलीम का शव उनके घर के कमरे से बरामद हुआ है। अलीम के शव के पास ही उनकी पिस्टल भी बरामद हुई है। रात दो बजे हाजी अलीम बाहर से आये थे। अलीम की पत्नी गुड़गांव के एक अस्पताल में कई दिन से भर्ती हैं।

कहने को आत्महत्या, लेकिन मंजर कुछ और बयां कर रहा है
बुलंदशहर सिटी के ऊपरकोट इलाके में स्थित पूर्व विधायक हाजी अलीम के आवास पर आज दोपहर उस वक्त कोहराम मच गया जब उनके बेडरूम में उनकी लाश मिली। रात को देर से वापस आये अलीम अपने बैडरूम में सो रहे थे। जब 11 बजे तक भी कमरे का दरवाजा नहीं खुला तो परिजनों ने आवाज लगाई और दरवाजा खटखटाया, लेकिन कमरे में किसी तरह की हलचल नहीं हुई। इसके बाद कमरे की खिड़की से सीढ़ी लगाकर नौकर बेडरूम में घुसे और दरवाजा खोला। कमरे का दृश्य बेहद खौफनाक था बेड पर अलीम का शव पड़ा था और पास ही उनकी पिस्टल और पिस्टल से निकला हुआ कारतूस पड़ा था।

सुसाइड की खबर से पहले दी हार्टअटैक से मौत की सूचना
मौके पर पहले परिजनों को बुलाया गया जिसके बाद यह सूचना दी गई कि हार्टअटैक के चलते हाजी अलीम की मौत हो गई है। मौके पर मौजूद पार्टी के कुछ लोगों ने बताया कि हाजी अलीम ने कनपटी पर गोली मारकर सुसाइड किया है। लेकिन पुलिस के मौके पर पहुंचने के बाद हाजी अलीम की मौत की गुत्थी हत्या और आत्महत्या के बीच उलझ गई है। पुलिस की फोरेंसिक टीम ने मौके पर जांच शुरू की है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।
एसपी सिटी प्रवीन रंजन ने बताया कि मामला हत्या का है या आत्महत्या का, यह जांच का विषय है। शव का पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल से होगा और पोस्टमार्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई जायेगी। पुलिस ने नौकरों से पूछताछ की है और पूरे घटनाक्रम की कड़ियां जोड़ी जा रही है। तफ्तीश के बाद ही स्थिति साफ होगी।

अलीम ने छुआ था जरायम से सियासत का आसमान
2007 से पहले तक हाजी अलीम और उनके दो भाई कोतवाली सिटी बुलंदशहर के हिस्ट्रीशीटर के तौर पर जाने जाते थे और उनके खिलाफ ढाई दर्जन से ज्यादा संगीत धाराओं के केस दर्ज थे। केवल बुलंदशहर ही नहीं, यूपी के मुजफ्फरनगर के अलावा कई और राज्यों में भी अलीम और उनके भाइयों पर आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं। 2007 में बीजेपी सरकार के कद्दावर पूर्वमंत्री और पूर्व आईपीएस महेन्द्र यादव को हराकर हाजी अलीम पहली बार बसपा के टिकट पर विधायक बने और दूसरी बार उन्होंने बीजेपी के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री वीरेन्द्र सिंह सिरोही को 2012 में हराया। 2017 के विधानसभा चुनाव में भी अलीम बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े लेकिन बीजेपी के वीरेन्द्र सिंह सिरोही ने उन्हें शिकस्त दे दी।

तीसरी पत्नी की मौत के बाद टूट गये थे हाजी अलीम
सूत्रों के मुताबिक हाजी अलीम की अब तक चार शादियां हुई हैं। उनकी सबसे पहली पत्नी के बेटों ने कुछ साल पहले दिल्ली में उनकी सबसे अजीज तीसरी पत्नी की हत्या कर दी थी। अपने जीवन में हाजी अलीम के लिए यह वारदात सबसे बड़ा झटका थी। दो साल पहले हाजी अलीम ने चौथी शादी की जिससे उनको एक बच्चा भी है। हाजी अलीम की चौथी पत्नी बीते कुछेक दिनों से गुड़गांव के एक अस्पताल में भर्ती है।