चिकित्सकों के बीच चल रही गुटबाजी में आशा बहू व एएनएम आमने सामने

28

तिलोई (अमेठी)। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर में दो चिकित्सकों के बीच चल रही गुटबाजी में आशा बहू व एएनएम आमने सामने आ गई।रविवार को आशा बहुओं का गुट अपनी मांगों को लेकर तिलोई विधायक के आवास पर जा पहुंचा जहां पर सैकड़ों की संख्या में आशा बहुओं ने प्रदर्शन कर न्याय की गुहार लगाई वही एएनएम गुट केन्द्र अधीक्षक से मिलकर आरोप प्रत्यारोप लगाया है।सीएमओ ने उक्त मामले में जांच हेतु तीन सदस्यीय समिति गठित की है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर एक लम्बे अरसे से वर्चस्व को लेकर सुर्खियों में है।यहां की एएनएम द्वारा बीती 19 जुलाई को आयोजित मीटिंग के बाद बीसीपीएम द्वारा अपशब्द कहने का आरोप लगाते हुये केन्द्र अधीक्षक से शिकायत दर्ज कराई गई थी जिसे केन्द्र अधीक्षक ने दोनों पक्षों को बैठाकर शांत करा दिया था लेकिन अंदर ही अंदर वर्चस्व को लेकर चिंगारी सुलगती रही जिसने रविवार को विकराल रुप उस वक्त धारण कर लिया जब सैकड़ों की संख्या में आशा बहुओं के साथ अन्यकर्मी क्षेत्रीय विधायक राजा मयंकेश्वर शरण सिंह के तिलोई स्थित राजभवन पर पहुंच गये और सीएचसी प्रभारी सुधीर कुमार वर्मा पर प्रताड़ित किये जाने का आरोप लगाया।आशा बहुओं द्वारा सीएमओ व विधायक के नाम सम्बोधित शिकायती पत्र में तमाम आरोप भी लगाये गये है।आशा बहू व अन्यकर्मी जब तिलोई राजभवन पहुंचे तो विधायक मौजूद नही थे।विधायक जब अपने आवास पर पहुंचे तो शिकायतकर्ताओं को सोमवार को बुलाया है।इस सम्बन्ध में जब सीएचसी प्रभारी सुधीर वर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि यह मनगढ़ंत कहानी है।इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी राजेश मोहन श्रीवास्तव ने बताया कि आशा बहुओं के प्रताड़ना का आरोप निराधार है कुछ कर्मचारियों में आपसी तनाव की बात सामने आई है। उन्होंने बताया कि डिप्टी सीएमओ राम प्यारे के नेतृत्व में तीन सदस्यीय कमेटी को जांच सौंपी गई है जो अपनी जांच रिपोर्ट सोमवार को प्रस्तुत करेंगे।उन्होंने बताया कि इस मामले में जो भी दोषी पाया जायेगा उसके खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जायेगी।

वीरेन्द्र सिंह रिपोर्ट