जिले भर में याद किए गए संविधान शिल्पी बाबा साहब

18
Raebareli News: जिले भर में याद किए गए संविधान शिल्पी बाबा साहब

रायबरेली। भारत रत्न संविधान शिल्पी बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस जिले भर में मनाया गया। इस दौरान तमाम कार्यक्रम आयोजित किए गए। बहुजन शक्ति संघर्ष वाहिनी एवं विश्व दलित परिषद के पदाधिकारियों ने हाथी पार्क स्थित बाबा साहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर एवं कैंडल जलाकर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। मास्टर राम औतार गौतम द्वारा बुद्ध वंदना और त्रिशरण का पाठ भी कराया गया। शहर कांग्रेस कमेटी रायबरेली द्वारा सायं हाथी पार्क स्थित आम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्र्यापण कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

समाजसेवी व दलितोत्थान के चिंतक इं. एसके आर्या ने कहा कि डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर एक मनीषी, योद्धा, नायक, विद्वान, दार्शनिक, वैज्ञानिक, समाजसेवी एवं धैर्यवान व्यक्त्वि के धनी थे। उनकी अद्वितीय प्रतिभा अनुकरणीय है। विश्व दलित परिषद के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुरील ने कहा कि बाबा साहब अनन्य कोटि के नेता थे, जिन्होंने अपना समस्त जीवन समग्र भारत की कल्याण कामना में उत्सर्ग कर दिया। अम्बेडकर बुद्ध बिहार समिति बालापुर से राम प्रसाद बौद्ध ने कहा कि खासकर भारत के 80 फीसदी दलित सामाजिक व आर्थिक तौर से अभिशप्त थे, उन्हें अभिशाप से मुक्ति दिलाना ही डॉ. अम्बेडकर का जीवन संकल्प था। संचालन कर है बहुजन शक्ति संघर्ष वाहिनी के अध्यक्ष रोहित चौधरी ने कहा कि बाबा साहब ने कहा था कि वर्गहीन समाज गढऩे से पहले समाज को जाति विहीन करना होगा। समाजवाद के बिना दलित-मेहनती इंसानों की आर्थिक मुक्ति संभव नहीं। हम लोगों को बाबा साहेब के इस कथन को संकल्पित कर आगे बढऩा होगा। कार्यक्रम में संरक्षक राजेन्द्र कुमार, राम सुख, राजेन्द्र बौद्ध, दिलीप कुमार, विनय अम्बेडकर, बुद्ध प्रिय गौतम, सुनील कमल, अरविन्द कुमार, शुभम चौधरी, समुझ लाल धीमान, गुप्तार वर्मा, राम सजीवन कोरी, सत्येन्द्र सम्राट, अजय वर्मा, शिव कुमार अग्रहरि ने उपस्थित होकर भवभीनि श्रद्धांजलि अर्पित किया। अम्बेडकर नगर विकास समिति के तत्वाधान में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के 62वें परिनिर्वाण दिवस पर उनकी प्रतिमा पर समिति के संरक्षक धनीराम बौद्ध की अध्यक्षता में माल्यापर्ण एवं श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन हुआ। संचालन समिति के अध्यक्ष सीबी गौतम ने किया। अध्यक्षता कर रहे धनीराम बौद्ध ने कहा कि बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर नाम से लोकप्रिय, भारतीय बहुज्ञ, विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिक और समाज सुधारक थे। उन्होनें दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और अछूतों से सामाजिक भेद-भाव के विरूद्ध, अभियान चलाया था। सीबी गौतम ने कहा बाबा साहब श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों को समर्थन कर एक प्रेरणा नायक पुरूष बनें। इस मौके वार्ड सभासद गनेश कुमार, देशराज, वंश गोपाल, गुरू प्रसाद, कामता प्रसाद, टीसी गौतम, छेदी लाल, रमेश, प्रमोद कुमार, मोहन लाल, सूर्य पाल, प्रदीप कुरील, समुझ लाल धीमान आदि ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। रिपब्लिक पार्टी ऑफ  इण्डिया (ए) के कार्यालय में श्रद्धांजलि सभा व संगोष्ठी का आयोजन किया गया। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष राजेश कुरील व संचालन उपाध्यक्ष राजाराम विद्यार्थी ने किया। संगोष्ठी में सचिव छेदी लाल निषाद, विधान सभा अध्यक्ष सदर राजेश सिंह, सलीम अहमद, मो. शकील, दिनेश यादव, भगवानदीन धीमान, राम सेवक यादव, देवनाथ यादव, सन्तराम यादव, हरभजन, माता प्रसाद, प्रकाश दीप निषाद, गीता देवी निषाद, मुन्नी देवी निषाद, विश्वनाथ, श्रीमती शिवकुमारी यादव, सुलोचना देवी आदि लोगों ने श्रद्धासुमन अर्पित किया। शहर कांग्रेस अध्यक्ष सईदुल हसन ने स्व. डा. भीमराव आम्बेडकर के विचारों और उनके किये गये कार्यों पर चर्चा करते हुए कहा कि आज जिस प्रकार देश के संविधान के साथ छेडछाड़ करते हुए लोकतंत्र की हत्या करने की साजिश चल रही है। उसके विरोध में देश की एकता के लिए काग्रेस जनों व आम जनता को सामने आकर ऐसी उभर रही विघटनकारी शक्तियों के खिलाफ  संघर्ष करना होगा। उपाध्यक्ष पंकज सोनकर, सूर्य कुमार, धीरज श्रीवास्तव, आशीष द्विवेदी, हिमांशु सिंह, कन्हैया लाल सोनकर, अनवार खान, प्रमोद पाण्डेय, सोनू खान, मनोज त्रिवेदी, अजीजुल हसन, जितेन्द्र तिवारी, एडवोकेट सौरभ, शहर प्रवक्ता मीसम नकवी आदि मौजूद रहे।