डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ मेरे स्टाफ ने लेख नहीं लिखा, मैं लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए तैयार: उपराष्ट्रपति माइक पेंस

123

वॉशिंगटन.   अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने रविवार को कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के नेतृत्व की आलोचना करने वाला न्यूयॉर्क टाइम्स का लेख उनके स्टाफ ने नहीं लिखा। उन्होंने कहा- “मैं इसके लिए सौ फीसदी आश्वस्त हूं। मैं इसके लिए लाई डिटेक्टर टेस्ट से गुजरने को तैयार हूं।” दरअसल, कुछ दिन पहले ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन से जुड़े एक अफसर ने न्यूयॉर्क टाइम्स में ‘आई एम पार्ट ऑफ रेजिस्टेंस इनसाइड द ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन’ नाम से लेख लिखा। इसमें कहा गया कि डोनाल्ड ट्रम्प के फैसले देश के लिए नुकसानदेह साबित हो सकते हैं। अफसर ने अपने नाम का खुलासा नहीं किया था। मेरे स्टाफ पर लगे आरोप सही नहीं: माइक पेंस ने इंटरव्यू में कहा कि मैं इस बात की गारंटी लेता हूं कि उपराष्ट्रपति स्टाफ का कोई भी अफसर इसमें शामिल नहीं है। मैं अपने लोगों को जानता हूं। सभी अफसर राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा देश के लोगों के लिए किए जा रहे कामों को आगे ले जाने में लगे हैं। इस बारे में जो आरोप लगाए जा रहे हैं। वे सभी झूठे हैं। सट्‌टेबाजों ने पेंस ने नाम पर दांव लगाना शुरू कर दिया:  दो दिन बाद अमेरिका में सट्‌टेबाजों ने अधिकारी के नाम को लेकर दांव लगाना शुरू कर दिया है। इसमें उपराष्ट्रपति माइक पेंस पर सबसे ज्यादा शक जताया गया। अमेरिका के राजनीतिक विश्लेषकों का भी मानना है कि इस लेख के लेखक पेंस हो सकते हैं। इसकी वजह यह है कि इसके लिखने वाले की पहचान ट्रम्प प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी के तौर पर सामने आ रही है। ट्रम्प ने दिए हैं जांच के आदेश: अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रम्प ने न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स में अपने खिलाफ छपे लेख की जांच के आदेश दिए थे। जांच का जिम्मा डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस के एटार्नी जनरल जेफ सेशन्स को सौंपा गया। ट्रम्प ने कहा कि जेफ उस लेखक (अनाम अफसर) को सामने लाएंगे, जिसने देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया।