पर्वो व अयोध्या मामले सम्भावित फैसले के मद्देनजर डीएम-एसपी ने कानून एवं शान्ति व्यवस्था को बरकरार रखने के अधिकारियों को दिये निर्देश

14

15 दिसम्बर तक अधिकारी/कर्मचारी बिना अनुमति के मुख्यालय न छोडे़ : डीएम

पर्वो पर कोई भी नई परम्परा की न हो शुरूवात : शुभ्रा

रायबरेली। अयोध्या मामले के मद्देनजर व पर्व ईद-ए-मिलाद/बारावफात, गुरूनानक जयन्ती/कार्तिक पूर्णिमा, वीरांगना ऊदा देवी शहीद दिवस, गुरूतेगबहादुर शहीद दिवस आदि को देखते हुए जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई ने बचत भवन के सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए निर्देश दिये कि वह क्षेत्र में भ्रमण कर क्षेत्र की संवेदनशीलता को बनाये रखने के साथ ही शान्ति व्यवस्था बनाये रखने के लिए ड्यूटी पर लगाये गये अधिकारियो/कर्मचारियों से सामंजस्य बनाकर क्षेत्र में शान्ति एवं कानून व्यवस्था को दुरूस्त रखने का कार्य करें। उन्होंने कहा कि अगामी 15 दिसम्बर तक कोई भी अधिकारी/कर्मचारी किसी भी दशा में मुख्यालय न छोड़े जो भी अवकाश लिया है उसे रद समझे साथ ही कोई महत्वपूर्ण कारण आदि हो तो जिलाधिकारी की अनुमति लेकर जाये। पुलिस, प्रशासनिक अधिकारी आदि से बेहतर सामन्जस्य बनाकर टीम भावना से कार्य कर प्रत्येक दशा में सभी धर्मो व सम्प्रदाय के लोगों से आपसी सौहार्द भाई चारा बनाये रखने की अपील के साथ ही अन्य कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि अयोध्या मामले में आने वाले फैसले को लेकर जिला एवं पुलिस प्रशासन ने रणनीति तैयार करते हुए संवेदनशील स्थलों व असामाजिक तत्वों को निरन्तर चिन्हित कर कार्यवाही करते रहे है। युवाओं की गतिविधियों पर विशेष ध्यान रखा जाये। सोशल साइट्स पर किसी भी प्रकार की अफवाह फैलाने वालों पर कड़ी निगरानी रखी जाये। गड़बड़ी फैलाने का प्रयास करने वालों को कतई बक्शा नहीं जायेगा तथा कठोर कार्यवाही अमल में लाकर कार्यवाही करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि पर्वो पर कोई भी नई परम्परा की शुरूवात न हो पर्वो का उद्देश्य भाईचारा सौहार्दपूर्ण वातावरण राष्ट्रीय एकता अखण्डता में वृद्धि लाना है।

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने एडीएम प्रशासन राम अभिलाष को निर्देश देते हुए कहा कि जनपद में वर्तमान में धारा 144 भी प्रभावी है। इसके प्राविधानों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाये। अपने-अपने क्षेत्रों भ्रमण के साथ ही निरन्तर शान्ति समिति की बैठक करने के साथ ही आमजन को बताया जाये कि पूर्व के भाति अपने-अपने क्षेत्रों में मिलजुल कर रहे और क्षेत्रों की कड़ी निगरानी करे तथा अफवाह फैलाये जाने वालों पर निगरानी करके उन्हें विरूद्ध प्रशासन को अवगत भी करते रहे। अफवाह फैलाये जाने वालों पर कानून अपना कार्य करेगा। नगर व गांव के प्रमुख मार्गो पर पुलिस फोर्स के साथ सुबह शाम रूट मार्च निकाला जाये। सभी धर्मो सम्प्रदाओं के लोगों को बुलाकर उनसे परस्पर विचार विमर्श कर शान्ति व्यवस्था भाई चारा बनाये रखने के लिए ग्रामीण स्तर पर दूरदराज तक पैठ बनाये। उन्होंने कहा कि ग्राम प्रहरी व कोटेदार गांव के मध्य की एक महत्वपूर्ण कड़ी है जिसे प्रत्येक दशा में सक्रिय कर क्षेत्रों की संवेदनशीलता पर कड़ी नजर रखे। गड़बड़ी फैलाने वालों पर तत्काल कार्यवाही भी करे। प्रत्येक थानों/तहसीलों में कोटेदार, ग्राम प्रहरी, बुद्धिजीवी, समाज सेविओं वृद्धजन युवाओं आदि को बुलाकर उनकी साथ बैठकर कानून एवं शान्ति व्यवस्था को बरकरार रखने को कहे। इसके अलावा सभी समस्त तहसीलों जिला स्तर पर अस्थाई जेल का भी रूप दें ताकि चिन्हित असामाजिक तत्वों, अफवाह फैलाने वालों आदि को बन्द करने की कार्यवाही की जा सके।

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने बताया कि जनपद में शान्ति व्यवस्था बनाए रखने के लिए एवं प्रत्येक स्थिति में प्रभावी नियत्रण रखने के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित कर दिया गया है जिसका फोन नम्बर 0535-2203320 है। इसके साथ ही नियंत्रण कक्ष में आर0टी0 सेट लगाया गया है। नियंत्रण कक्ष के नोडल अधिकारी राजेन्द्र कुमार शुक्ला, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट है। नियंत्रण कक्ष में तीन शिफ्ट में कर्मचारी व अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है। नियंत्रण कक्ष पर आने वाली सूचनाओं को सम्बन्धित अधिकारी को प्रेषित कर एवं समय से उसका निस्तारण कराए जाने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये है कि कन्ट्रोल रूम को पूरी तरह से सक्रिय रखा जाये। उन्होने कहा कि कंट्रोल रूम की जानकारी अधिकारी आमजन को भी दे ताकि आमजन किसी भी प्रकार की जानकारी की सूचना दे सके। सभी थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्रों में किसी भी संदिग्ध गतिविधि पर कड़ी निगरानी रखे तथा गड़बड़ी फैलाने का प्रयास करने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही तत्काल अमल में लायी जाये। उन्होंने सभी अधिकारियों व जन प्रतिनिधियों से अपील की है कि वह ऐसा कोई कार्य किसी के बहकावें में आकर कतई न करें जिससे कि कानून का उल्लंघन हो। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, अपर जिलाधिकारी वि0रा0 प्रेम प्रकाश उपाध्याय व प्रशासन राम अभिलाष, एसडीएम सदर शशांक त्रिपाठी, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 शरद कुमार वर्मा, डीएफओ तुलसीदास शर्मा, डा0 अलताफ, समस्त एसडीएम, तहसीलदार, सीओ व थाना प्रभारी, बीएसए, ग्राम विकास अधिकारी एडी सूचना प्रमोद कुमार आदि जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

अनुज मौर्य रिपोर्ट