शारदा यूनिवर्सिटी: अफगान-भारतीय छात्रों की भिड़ंत में 12 छात्र निलंबित

28

ग्रेटर नोएडा के शारदा विश्वविद्यालय में बीती एक अक्टूबर और चार अक्टूबर को अफगानी-भारतीय छात्रों के बीच हुए बवाल के मामले में गठित विश्वविद्यालय की तीन सदस्यीय जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट जिला प्रशासन को दे दी है.

नोएडा: ग्रेटर नोएडा के शारदा विश्वविद्यालय में बीती एक अक्टूबर और चार अक्टूबर को अफगानी-भारतीय छात्रों के बीच हुए बवाल के मामले में गठित विश्वविद्यालय की तीन सदस्यीय जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट जिला प्रशासन को दे दी है.

तीन सदस्यीय समिति के मुखिया शारदा विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार अमल कुमार ने अपनी रिपोर्ट में जिला प्रशासन को बताया है कि इस मामले में 12 छात्रों को निलंबित किया गया है जबकि 14 छात्रों को चेतावनी दी गई है. उन्होंने बताया कि इसमें अफगानी व भारतीय छात्र शामिल हैं.

थाना नॉलेज पार्क के प्रभारी निरीक्षक अरविंद कुमार पाठक ने बताया कि छात्रों में हुए विवाद के चलते चार दिन से बंद शारदा विश्वविद्यालय को मंगलवार को खोला गया. उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में परीक्षा संपन्न कराई गई. उन्होंने बताया कि इस मामले में थाना नॉलेज पार्क पुलिस ने विश्वविद्यालय के हॉस्टल में रहने वाले 32 छात्रों को पाबंद किया है.

इस मामले में एसडीएम सदर राजपाल सिंह ने विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार को नोटिस भेजा है. उनसे पूछा गया है कि शारदा विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों में आपस में बार-बार विवाद क्यों हो रहा है. एसडीएम ने बताया कि जिस दिन विश्वविद्यालय में 2 देशों के छात्रों के बीच विवाद हुआ उस दिन यह बात सामने आई थी कि कॉलेज में कुछ बाहरी असमाजिक तत्व घुस गए थे. जिन्होंने छात्रों को भड़का कर उपद्रव करवाया.

इस मामले में एसपी ग्रामीण विनीत जयसवाल ने बताया कि एक अक्तूबर को शारदा विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले अफगानी छात्रों व भारतीय छात्रों के बीच जमकर मारपीट हुई थी. इस घटना में शामिल एक अफगानी छात्र को विश्वविद्यालय प्रशासन ने उसी दिन निलंबित कर दिया था जबकि चार अक्तूबर को तीन अफगानी छात्रों को विश्वविद्यालय ने निलंबित किया.

उन्होंने बताया कि अन्य छात्रों को निलंबित करने व उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर भारतीय छात्रों ने चार अक्तूबर को विश्वविद्यालय परिसर में हंगामा कर दिया था. एसपी ने बताया कि मौके पर पहुंची पुलिस व जिला प्रशासन ने छात्रों को समझा बुझाकर मामला शांत कराया. उन्होंने बताया कि इस मामले में 350 भारतीय छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.