सर्वजना कारपोरेशन प्रोडयूसर कम्पनी (केरेडिबल) में लटका ताला,डायरेक्टर और सीनियर एडवाइजर को पकड़कर किया पुलिस के हवाले

288

सलोन (रायबरेली)। सर्वजना कारपोरेशन प्रोडयूसर कम्पनी लिमटेड में निवेशकों की खून-पसीने की कमाई अटक जाने से अब जमाकर्ताओं में आक्रोश गहराने लगा है। अपना जमा धन प्राप्त करने के लिए निवेशक इस कदर परेशान है कि जब उसे एजेंट की ओर से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो कम्पनी के डायरेक्टर और सीनियर एडवाइजर को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।उल्लेखनीय है कि लेनदेन के कारोबार का साज बिछाये सर्वजना कारपोरेशन प्रोडयूसर ने पूर्व में अपनी कम्पनी का केरेडिबल एग्रो लैंड लिमटेड के नाम से जमाकर्ताओं से लाखों रुपये स्किम में दिन दूनी रात चौगुनी के नाम से बटोरा था।लेकिन सेबी और भारत सरकार की सख्ती के बाद केरेडिबल कम्पनी का बोर्ड सर्वजना कारपोरेशन प्रोडयूसर कम्पनी लिमटेड के नाम से हो गया।जमाकर्ताओं को भी भ्रमित करके यह बताया कि कम्पनी अंतर राष्ट्रीय स्तर पर काम करने जा रही है।और जो पैसा आप जमाकर्ताओं का जमा हुआ है।उसके बदले अच्छी कीमत की जमीन दी जायेगी।करीब एक महीने से निवेशकों को उनके जमा धन की मियाद पूरी होने के बाद भी भुगतान के लिए चक्कर काटने पड़ रहे हैं। निवेशकों का आरोप है कि उनके जमा धन की मियाद पूरी होने के बावजूद उनका पैसा वापस नहीं दिया जा रहा है। कई बार ऑफिस के चक्कर लगाने के बावजूद बहाने बनाए जा रहे हैं। कुछ निवेशकों ने बताया कि भुगतान पांच-छ: माह पूर्व होना था, लेकिन अब तक नहीं दिया जा रहा है। हर बार कहा जाता है कि अभी राशि नहीं है अगली बार ले जाना। इसे लेकर जहां निवेशकों में आक्रोश है वहीं एजेंट भी दबावों से परेशान हैं। इस बीच पता चला है कि कम्पनी के ऑफिस में कई दिनों से ताला लटक रहा है। सोमवार जमाकर्ता और एजेंट कम्पनी में कार्यरत लोगो को ढूढ़ते ढूढ़ते नवीन मंडी पहुँच गये।जहां पर अपने आप को कम्पनी का डायरेक्टर बता कर लोगो की मेहनत की कमाई ऐंठने वाले हरिश्चंद्र मौर्य,राजेश सरोज लोगो के हत्थे चढ़ गये।जिसके बाद उन्हें पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया गया है।सलोन कोतवाल रामाशीष उपाध्याय ने बताया कि कुछ लोग सुबह थाने आये थे।ओम प्रकाश की तरफ से तहरीर दी गई है।मामले की जांच के बाद कार्यवाही की जायेगी।

अनुज मौर्य/प्रदीप गुप्ता रिपोर्ट