आखिर पूर्ति निरीक्षक ने क्यों नहीं की कार्यवाही? , जिलाधिकारी ने दिए मामले पर जाँच के आदेश

256

डलमऊ (रायबरेली)। डीएम के सामने पहुंचा राशन घोटाले का मामला ।

तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत बेहीखोर में राशन की दुकान में धांधली का मामला अब जिलाधिकारी की चौखट पर पहुंच गया है। मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस में गांव निवासी सुरेंद्र कुमार ने लगभग एक दर्जन शिकायत कर्ताओं के साथ राशन राशन वितरण में की जा रही अनियमितता की शिकायत की। बताया गया कि आरटीआई से ली गई सूची में पात्र गृहस्ती के 447 राशन कार्ड में 2314 यूनिट दर्ज थे जिन से विगत 2 वर्षों से राशन निकाला जा रहा था किंतु सूचना लेने के उपरांत 26 दिसंबर की सूची में 49 राशन कार्ड बिना किसी जांच के हटा दिए गए जिससे अब 398 राशन कार्डों की सूची में 1705 यूनिटी रह गए जिससे प्रतीत होता है कि लगभग 600 यूनिट का खाद्यान्न फर्जी तरीके से निकाला जा रहा था। शिकायतकर्ता को अंदेशा है कि राशन कार्डो में बाहरी लोगों के नाम दर्ज करके हेरा फेरी की जा रही थी। जांच के डर से पूर्व विभाग ने राशन कार्डो की संख्या व यूनिट में बड़ा फेरबदल कर दिया। जानकारी के अनुसार बता दें कि इसके पूर्व की गई शिकायत के आधार पर पूर्ति निरीक्षक डलमऊ कौमुदी पाल ने गांव पहुंचकर लोगों के बयान दर्ज किए थे जिससे शिकायतकर्ता संतुष्ट नहीं था।

अनुज मौर्य/विमल मौर्य रिपोर्ट

Previous articleनर्सरी से कक्षा 12 तक के सभी बोर्डो के विद्यालय दिनांक 8/1/2020 को बन्द रहेंगे
Next articleवन विभाग की लापरवाही की खुली पोल, क्षेत्राधिकारी सलोन की बड़ी कार्यवाही