केक काटकर मनाया केएमसी लाउंज का स्थापना दिवस

345

एक वर्ष में 250 से अधिक नवजात शिशुओं को मिल चुका है जीवनदान

शिवगढ़ (रायबरेली)। सीएचसी शिवगढ़ में स्थित केएमसी लाउंज के एक वर्ष पूरा होने पर हर्षोल्लास के साथ केएमसी माताओं द्वारा केक काटकर केएमसी लाउंज का स्थापना दिवस मनाया गया। समूचे केएमसी परिसर को दूल्हन की तरह सजाया गया। अतिथियों के रुप में उपस्थित केएमसी माताओं से जब केक काटकर शुभारंभ करने को कहा गया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। सभी केएमसी माताएं अपने आपको गौरवान्वित महसूस करने लगी।
इस अवसर पर उपस्थित केएमसी निदेशक राघव कृष्णा, सीएचसी अधीक्षक डॉक्टर एलपी सोनकर एवं सीएचसी स्टाफ द्वारा मौके पर उपस्थित सभी केएमसी माताओं को बच्चों के कपड़े देकर सम्मानित किया गया। बताते चलें कि सीएचसी शिवगढ़ प्रांगण में स्थित केएमसी लाउंज में अब तक 250 से अधिक लो बर्थ वेट एवं समय से पूर्व जन्मे अपरिपक्व नवजात शिशुओं को जीवनदान मिल चुका है। सीएचसी अधीक्षक डॉक्टर एलपी सोनकर ने बताया कि सीएचसी शिवगढ़ में केएमसी लाउंज स्थापित होने से पूर्व बहुत ही ज्यादा असुविधा होती थी। सीएचसी में कोई विशेष सुविधा ना होने के कारण मजबूरी में कम वजन के बच्चों को जिला अस्पताल के लिए रिफर करना पड़ता था। सीएचसी में जब से केएमसी लाउंज स्थापित हुआ है तब से कम वजन वह समय से पूर्व जन्म लेने वाले शिशुओं को केएमसी लाउंज में बेहतर सुविधाएं मिल रही है। श्री सोनकर ने बताया कि केएमसी से कम वजन व समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों में होने वाली कई प्रकार की बीमारियों के खतरे को टाला जा सकता है। कंगारू की तरह अपने बच्चे को अपनी स्किन से लगाकर रखने की वजह से ही इसे कंगारू केयर कहा जाता है। नवजात शिशु के लिए बाहर के वातावरण से सामंजस्य बिठा पाना काफी मुश्किल होता है, इसलिए उन्हें हर वक्त ढककर रखने की सलाह दी जाती है। केएमसी निदेशक राघव कृष्णा ने केएमसी के लाभों के विषय में बताते हुए कहा कि केएमसी से बच्चे का वजन बढ़ता है। स्तनपान बेहतर होता है। शिशु का तापमान सही रहता है और वह इन्फेक्शन से दूर रहता है। बच्चे और मां के बीच का रिश्ता मजबूत होता है। हॉस्पिटल से जल्दी छुïट्ïटी भी मिल जाती है। नाजुक शिशुओं की जीवन रक्षा में  केएमसी बेहतरीन इनक्यूबेटर मशीनों की अपेक्षा 40 प्रतिशत ज्यादा कारगर है। इस मौके पर डॉक्टर सौरभ सिंह, डॉ. प्रेम शरण, डॉक्टर अनिल कुमार, डॉ. तरुण मिश्रा, फार्मासिस्ट अनिल श्रीवास्तव, अनुपम शुक्ला, स्टाफ नर्स पुष्पा, संध्या, दीपिका, पूनम, एएनएमए संदीप वर्मा, जसवीर सिंह, अग्रिमा निर्मला आदि मौजूद रहे।

Previous articleक्या कहते हैं क्षेत्रीय विधायक
Next articleकरंट से हुई वृद्ध की दर्दनाक मौत