स्टेडियम में ताला बंदी पर नागरिकों ने किया डीएम आवास का घेराव

285
 रायबरेली। जिला क्रीड़ा अधिकारी के तुगलकी फरमान से सुबह अपनी फिटनेस के लिए जाने वाले लोगों को गुस्सा फूट पड़ा। सुबह स्टेडियम पहुंचे लोगों ने देखा तो स्टेडियम में ताला लगा हुआ था। जानकारी करने पर पता चला कि यह ताला जिला क्रीड़ा अधिकारी के आदेश से बंद किया गया है। नाराज लोग डीएम आवास का घेराव करने पहुंच गये। लोगों ने वहां जमकर हंगामा काटा। सूचना पर पहुंचे शहर कोतवाल ने लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन लोग नहीं माने। कोतवाल ने मामले की सूचना सिटी मजिस्टे्रट को दी। सूचना पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट ने लोगों को समझाया और सब को लेकर स्टेडियम आये। सिटी मजिस्टे्रट ने स्टेडियम का ताला खुलवाया तब जाकर लोगों का गुस्सा शांत हुआ।
जिले की खेल प्रतिभायें जहां फिटनेस के लिए शहर के जेल रोड स्थित पं. मोतीलाल नेहरू स्टेडियम जाती हैं वहीं बुजुर्ग और नागरिक मार्निंग वॉक के लिए स्टेडियम पहुंचते हैं। जिले में खेल प्रतिभाओ को दबाने का कार्य हमेशा से होता रहा है, चाहे स्टेडियम का क्रीड़ाधिकारी हो या बाबू व कोच। सबने अपने स्तर से खिलाडिय़ों को प्रताडि़त करने का काम करते हैं। रविवार को जब कुछ बुजुर्ग सुबह ठंडी और शुद्ध हवा पाने और मॉर्निंग वॉक को तथा युवा और बच्चे खेलने को मोतीलाल नेहरू स्टेडियम पहुंचे तो स्टेडियम के गेट पर ताला लगा था। लोगों ने जब इस बाबत चपरासी से पूछा तो वह बोला कि साहब ने कहा है कि रविवार को बंद रहेगा। इस बात से आक्रोशित लोगों ने पहले गेट पर हो हल्ला किया। इसके बाद कुछ लोगों ने सलाह दिया कि जिलाधिकारी आवास का घेराव किया जाए। आक्रोशित लोगों ने डीएम आवास का घेराव किया। सूचना पर पहुंचे मयफोर्स कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने पहुंच कर लोगों को समझाने का प्रयास किया, किन्तु लोग नहीं माने। तत्काल सूचना सिटी मजिस्ट्रेट आलोक कुमार को दी गयी। डीएम आवास पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट ने लोगों की समस्याओं को सुना तथा स्टेडियम पहुंचकर गेट का ताला खुलवाया। तब जाकर मामला शांत हुआ। सिटी मजिस्ट्रेट आलोक कुमार ने बताया कि स्टेडियम का ताला खुलवा दिया गया है। ताला क्यों बंद था इस बारे में जिला क्रीड़ा अधिकारी से पूछतांछ की जायेगी।

Previous articleनर्स ने कहा था-अभी लेट है बच्चा
Next articleमिश्रा गुट ने किया गोरा बाजार व्यापार मंडल का गठन