FIFA WORLD CUP: गोल्डन बूट की रेस में सबसे आगे हैं इंग्लैंड के कप्तान केन

248

नई दिल्लीइंग्लैंड के कप्तान हैरी केन रूस में खेले जा रहे फीफा विश्व कप के 21वे संस्करण में गोल्डन बूट की रेस में सबसे आगे खड़े हैं। उनके पीछे क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने वाली बेल्जियम के रोमेलु लुकाकु हैं।  केन ने कप्तान के तौर पर टीम का आगे से नेतृत्व किया और तीन मैचों में छह गोल दाग चुके हैं।

टूर्नामेंट अपने दो पड़ाव पार कर चुका है और तीसरे चरण क्वार्टर फाइनल में कदम रखने को है। अभी तक केन इस विश्व कप में सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी हैं। उनके बाद लुकाकु हैं जिन्होंने तीन मैचों में चार गोल किए। लुकाकु की टीम बेल्जियम भी अंतिम-8 में जगह बना चुकी है और वह केन को गोल्डन बूट की रेस में अच्छी टक्कर दे सकते हैं।

लुकाकु के साथ चार गोल पुर्तगाल के कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो के भी हैं, हालांकि केन को रोनाल्डो से खतरा नहीं है क्योंकि उनकी टीम चार मैच खेल कर टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है।  मेजबान रूस ने सभी को हैरान करते हुए अंतिम-8 में जगह बनाई है। उसके दो खिलाड़ी इस विश्व कप में तीन-तीन गोल कर चुके हैं। अर्टेम ज्यूबा और डेनिस चेरिशेव ने अपनी टीम के लिए अभी तक चार-चार मैचों में तीन-तीन गोल किए हैं।

वहीं फ्रांस के कीलियन म्बाप्पे भी इस रेस में केन को अच्छी टक्कर दे सकते हैं। उन्होंने चार मैचों में तीन गोल किए हैं और अपनी टीम को क्वार्टर फाइनल तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है।  रोनाल्डो के अलावा अर्जेटीना के दिग्गज खिलाड़ी लियोनेल मेसी से सभी को काफी उम्मीदें थं लेकिन मेसी चार मैचों में सिर्फ एक गोल कर पाए।

इन दोनों के अलावा ब्राजील के दिग्गज खिलाड़ी नेमार भी विश्व कप की शुरुआत में गोल्डन बूट के दावेदार माने जा रहे थे, वह हालांकि अभी तक चार मैचों में दो गोल ही कर पाए हैं। ब्राजील ने अंतिम-8 में प्रवेश तो कर लिया है लेकिन नेमार, केन को पछाड़ पाएं ऐसी संभावनाएं कम नजर आ रही हैं।

ब्राजील में 2014 में खेले गए पिछले विश्व कप में गोल्डन बूट का अवार्ड जीतने वाले कोलंबिया के जेम्स रोड्रीगेज इस विश्व कप में अपना खाता भी नहीं खोल सके। उनकी टीम प्री-क्वार्टर फाइनल में इंग्लैंड से हार कर टूर्नामेंट से बाहर हो गई।

Previous articleरतन टाटा का सपना रही लखटकिया कार ‘नैनो’ का सफर खत्म होने की तरफ
Next article1930 में स्थापित स्कूल का मनाया गया स्थापना दिवस