आखिर सहायक लेखाकार पर किसने लगाए गम्भीर आरोप

121

रायबरेली
क्षेत्र के दर्जनों ग्राम पंचायतों के ग्राम रोजगार सेवकों ने जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, उपायुक्त मनरेगा सहित खण्ड विकास अधिकारी अमावां को शिकायती पत्र देते हुए सहायक लेखाकार पर गम्भीर आरोप लगाये हैं। रोजगार सेवकों ने होम ब्लाक में तैनात सहायक लेखाकार पर बिना वजह परेशान करने व भ्रष्टाचार तथा अभद्रता का भी आरोप लगाया है।
बताते चलें कि विकास खण्ड अमावां में तैनात सहायक लेखाकार अमरेन्द्र कुमार जो कि ग्राम पंचायत डिडौली के निवासी हैं। स्थानीय होने के कारण अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने, भ्रष्टाचार के आकंठ में डूबे रहने व रोजगार सेवकों सहित अन्य मातहतों को परेशान करने का कार्य करते हैं यही नही प्राइवेट कर्मचारी के रूप में एक युवती को नियुक्त कर रखा है।जिसका किसी भी योजना से कोई लेना देना नही है। स्थानीय होने के चलते इनका कार्यालय आने जाने का कोई समय निर्धारित नही है। प्राइवेट तौर पर तैनात युवती के माध्यम से ही फाइल लेते है जो कि अवैध रूप से वूसली करती है, सुविधा शुल्क न देने वालों के साथ अभद्रता पर उतारू हो जाते हैं। यही नही रोजगार सेवकों से उनकी योग्यता पूंछकर उनका मजाक उड़ाया जाता है तथा ग्राम पंचायत को ब्लैक लिस्टेड कर विकास खण्ड में न घुसने की चेतावनी देते हैं। ब्लाक के दो दर्जन से अधिक रोजगार सेवक सहायक लेखाकार की मनमानी से त्रस्त हैं। रोजगार सेवकों ने सहायक लेखाकार की शिकायत करते हुए जिलाधिकारी, मुख्यविकास अधिकारी, उपायुक्त मनरेगा, व खण्ड विकास अधिकारी को पत्र देते हुए कार्यवाही की मांग की है।

ग्राम प्रधानों व ब्लाक कर्मियों ने भी लगाए गंभीर आरोप।


रोजगार सेवकों के अलावां नाम न छापने की शर्त पर दर्जनों ग्राम प्रधानों व ब्लाक कर्मियों ने भी सहायक लेखाकार अमरेन्द्र कुमार पर गम्भीर आरोप लगाते हुए बताया कि साहब दोपहर बाद आते हैं और देर रात तक कार्यालय में महफिले सजाते हैं। यही नही कई फर्मो के ठेकेदार भी रात में कार्यालय में बैठकर अपनी सेटिंग गेटिग करते देखे गये हैं। जिसके बाद सहायक लेखाकार ग्राम प्रधानों पर उनकी चहेती फर्मो से ही सामग्री लेने का दबाव बनाते हैं।

एडवोकेट अशोक यादव रिपोर्ट

Previous articleनदी पार करते वक़्त डूबने से एक बालक की हुई मौत
Next articleआज से क्या हो जायेगा महँगा:5%gst लगेगी