माध्यमिक जनपदीय सम्मेलन एवं शैक्षिक विचार गोष्ठी में जमे शिक्षक

28

रायबरेली
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ का जनपदीय सम्मेलन वैदिक इंटर कॉलेज में संपन्न हुआ। इसमें सेवानिवृत्त शिक्षकों एवं नवनियुक्त शिक्षकों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर शैक्षिक विचार संगोष्ठी भी आयोजित हुई।
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ का 54वां जनपदीय सम्मेलन हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया। नेता निर्दल समूह राजबहादुर सिंह चंदेल सदस्य विधान परिषद उत्तर प्रदेश बतौर मुख्य अतिथि शिक्षकों को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि शिक्षक राष्ट्र निर्माता होता है। वह समाज का पथ प्रदर्शक होता है। पिछले मूल्यांकन बहिष्कार का ही परिणाम था कि पारिश्रमिक दरें बढ़ी। इस बार 18 मार्च से मूल्यांकन बहिष्कार में आप सबका पूरा सहयोग मिला जिसकी वजह से प्रमुख सचिव स्तर पर 7 सूत्री मांगों को लेकर सहमति बनी है।
विशिष्ट अतिथि के रूप में शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व एमएलसी चेत नारायण सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि पुरानी पेंशन हमारा हक है। इसे हम लेकर रहेंगें। हमारा संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक तदर्थ शिक्षकों का विनियमितीकरण नहीं हो जाता है एवं वित्तविहीन शिक्षकों को सम्मानजनक मानदेय नहीं मिल जाता है। उन्होंने फरवरी 2024 में पुरानी पेंशन की बहाली की पूर्ण संभावना व्यक्त की। अतिथि के रुप में पधारे पूर्व एमएलसी एवं शिक्षक संघ के महामंत्री रामबाबू शास्त्री एवं प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेश कुमार तिवारी ने भी शिक्षकों को संबोधित किया।
सेवानिवृत्त शिक्षकों में मुख्य रूप से शिव शरण सिंह, डॉ. ओम प्रकाश त्रिपाठी, भागीरथ यादव, विमलेश अवस्थी, नरेंद्र बहादुर यादव, हरनाम प्रसाद, शुभा दुबे, राजेश बहादुर सिंह, धर्मपाल सिंह, वृंदावन मौर्य, राकेश बाबू सिंह, राम प्रकाश द्विवेदी, जितेन्द्र बहादुर सिंह, अमरेंद्र बहादुर सिंह, धीरेंद्र बहादुर सिंह आदि शिक्षक रहे, जिन्हें अंगवस्त्र एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। रमेश यादव, उदय श्रीवास्तव, आशीष त्रिपाठी, निर्भय सिंह एवं अमरेंद्र पाल को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा उत्तीर्ण कर शिक्षा अधिकारी बनने पर सम्मानित किया गया।
जनपदीय सम्मेलन एवं शैक्षिक विचार गोष्ठी का संचालन मंडल अध्यक्ष राम मोहन सिंह ने किया। जिला अध्यक्ष अशोक कुमार शुक्ला ने आए हुए शिक्षक प्रतिनिधियों का स्वागत किया। संगठन मंत्री विजय शंकर शुक्ला ने अतिथियों के प्रति प्रति आभार व्यक्त किया। जिला मंत्री सोमेश सिंह ने अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। लाल ऋषि कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने गीत के माध्यम से अतिथियों का स्वागत किया एवं सरस्वती वंदना प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष मीडिया प्रभारी डॉ सुनील दत्त, जिला कोषाध्यक्ष आशुतोष मिश्र, सदस्य राज्य परिषद शत्रुघ्न सिंह परिहार, डॉ नरेंद्र बहादुर सिंह, सदस्य प्रांतीय कार्यकारिणी सुशील सिंह, उपाध्यक्ष उमा शंकर त्रिवेदी, रामप्रताप सिंह, शिवेंद्र सिंह, शैलेश प्रकाश, प्रदीप कुमार, रणधीर सिंह, रिजवाना खान, डॉ शालिनी साहू, कमीक्षा प्रताप सिंह, ललित कुमार, संगठन मंत्री विजय शंकर शुक्ला, संयुक्त मंत्री सरोज अनिल कुमार, राम कैलाश यादव, विजय प्रताप सिंह, मनोज गौतम, कमलेंद्र वर्मा, शत्रुघन कुमार, सत्यम मिश्रा, रेनू सोनकर, आशुतोष सिंह,अनुराग सिंह, आय-व्यय निरीक्षक सत्येंद्र कुमार आदि शिक्षक पदाधिकारियों का विशेष सहयोग रहा।


प्रमोद कुमार, देशराज, डॉ शालिनी साहू, सुनील कुमार समेत दर्जनों नवनियुक्त शिक्षकों को भी अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया। लेफ्टिनेंट दिनेश कुमार, लेफ्टिनेंट राज नारायण, छोटेलाल गौतम, सत्येंद्र कुमार जैसे नवनियुक्त प्रधानाचार्यों के साथ-साथ राजकुमार पटेल, राजकुमार गुप्ता आदि प्रधानाचार्य भी उपस्थित रहे। सभाजीत यादव, संजीव यादव, जितेंद्र सिंह,शत्रुघ्न सिंह चौहान, वेद भास्कर पांडेय, बृजेश कुमार मौर्य, दिनेश चंद्र वर्मा, कृपाशंकर मौर्य, अशोक कुमार, रामबाबू, अजय सिंह चंदेल, नन्हे लाल, मुन्ना मिश्रा, प्रमोद कुमार, अमिताभ द्विवेदी, संगीत मिश्रा, डॉ शालिनी साहू, जय बहादुर सिंह, हरनाम सिंह, सर्वेश कुमार, बृजेश कुमार, श्री लाल रावत आदि शिक्षक भी उपस्थित रहे।

मनीष श्रीवास्तव रिपोर्ट

Previous articleहथोड़ा स्टेडियम शाहजहांपुर में एथलीट खिलाड़ियों को जिला ओलंपिक संघ द्वारा किया गया पुरस्कृत
Next articleभौतिकता व दैवीय दर्शन होता है अध्यात्म में-स्वामी स्वात्मानंदसंत